Monday, February 14, 2011

मोटू -- श्री कृपाशंकर भरद्वाज जी + श्री हरविंद मांकड़ जी -- दीवाना + लोटपोट




मोटू पतलू ,घसीटा राम, डॉ. झटका, चेला राम, मेरे मनपसंद कॉमिक चरित्र है . मैंने इन्हें दीवाना पत्रिका से पढना शुरू किया था और बाद में ये लोटपोट में भी छपने लगे  . आपको आश्चर्य होंगा की , मैं अब भी रेलवे स्टेशन में लोटपोट और चंदामामा खरीदता हूँ . जहाँ तक मुझे याद आता है , इनके creator श्री कृपाशंकर भरद्वाज जी है , बाद में इन्हें श्री हरविंद मांकड़ ने बनाना  शुरू किया . लेकिन दोस्तों , क्या कहूँ आपसे, सारी दुनिया एक तरफ और मोटू पतलू series एक तरफ. मेरा सलाम दोनों artists को . तो आईये और मेरे संग एक पुराने सफ़र पर चले . आपसे निवेदन है की इन्हें देखकर कुछ कमेन्ट जरुर करे. धन्यवाद. 


10 comments:

Comic World said...

विजय भाई बहुत खूब,इस बार चित्र बहुत ही साफ़ और चमक लिए हुए आया है.मोटू के साथी पतलू भी साथ होते तो और मज़ा आता.

harvinder said...

thx..vijay ji...itni mehnat se aapne mere cartoon kosheja..32 years se mein motoo ptaloo ormany other s charaector bna rha haoo...sabse pehel moto patloo 44 year back LOTPOT mein pehli baar chappe the..aaj tak safar jari hai....sab aap logo ke pyaar kivajeh se//thx
regards
HARVINDER MANKKAR
harvindermankkar@gmail.com
theartstudio.biz

बरेली से said...

यह क्या पूरे साल बाद नई पोस्ट१ मैं भी खूब पढ़ता था और मौका लगने पर पढ़ता हूं...

Indian Comics said...

vijay bhai aap ki comics ki deewangi dekh ker mujhe aysa lag raha hai ki aap jyse logo ke lie mujhe kuch kerna chaheye............

HojO said...

where are you buddy??long time no post??do visit the comcic-blogs soon :)

G.N.SHAW said...

बढ़िया लगा ! लगे रहे ! स्वतंत्रता दिवस की बधाई !

रोहित बिष्ट said...

बचपन की याद दिला दी आपने,अच्छा लगा।

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

कुमार पंकज said...

I m also a fan of ghaseeta raam :) mujhe bhi comics padhne ka bees saal ka tajurba hai :)

कुमार पंकज said...

I m also a fan of ghaseeta raam :) mujhe bhi comics padhne ka bees saal ka tajurba hai :)